छोड़कर सामग्री पर जाएँ

VRUTANT LEKHAN IN HINDI

VRUTANT LEKHAN IN HINDI – वृत्तांत लेखन वह लिखित सामग्री है, जो किसी सत्य घटना, कार्य योजना, समारोह आदि के बारे में प्रत्यक्ष देखकर या छानबीन ( पूछताछ कर) करके तैयार की जाती है । वृत्तांत लेखन को रिपोर्ट राइटिंग अथवा प्रतिवेदन भी कहा जाता है ।वृत्तांत अतिसंक्षिप्त; किन्तु काफी सारगर्भित रचना होती है । जिसे पढ़कर या सुनकर उस घटना या अन्य कार्यवाही के बारे में वस्तुपरक जानकारी मिल जाती है। पूरी घटना को क्रमानुसार लिखा जाता है ।

वृत्तांत लिखते समय ध्यान देने योग्य बातें :

■ वृत्तांत के विषय को भलीभाँति समझना और रूपरेखा बना लेना आवश्यक है ।

→ वृत्तांत संक्षिप्त होना चाहिए । शब्द सीमा 60 से 80 शब्दों तक हो ।भाषा सरल और सुस्पष्ट होनी चाहिए ।

→ वृत्तांत के आरंभ में ही शीर्षक लिखना चाहिए। शीर्षक सटीक होना चाहिए ।

→ घटना या कार्रवाई की मुख्य बात अवश्य लिखें ।

→ वृत्तांत में पुनरुक्ति दोष नहीं होना चाहिए । एक ही बात को घुमा-फिरा कर न लिखें ।

→ वृत्तांत में स्थान, समय, तिथि, घटना आदि का स्पष्टनिर्देश देना चाहिए ।

→ वृत्तांत में घटनाक्रम के अनुसार परिच्छेद होना चाहिए । → वृत्तांत में घटना का सुंदर और सजीव वर्णन होना चाहिए ।→ वृत्तांत लेखन भूतकाल के वाक्यों में लिखा जाता है ।

→ उत्तम पुरुषवाचक (मैं, मुझे, मेरा, हमें) आदि शब्दों का प्रयोग न करें ।

■ वृत्तांत वर्णनात्मक और रचनात्मक शैली में लिखा होना चाहिए ।

समारोह के अंत में समापन एवं आभार प्रदर्शन होना चाहिए ।

वृतांत लेखन के विषय –

1. राष्ट्रीय युवा दिवस (12 जनवरी)

2. गणतंत्र दिवस (26 जनवरी)

3. राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (28 फरवरी)

4. विश्व महिला दिवस (8 मार्च)

5. विश्व पर्यावरण दिवस (5 जून)

6. योग दिवस (21 जून)

7. वृक्षारोपण दिवस (21 अप्रैल)

8. स्वतंत्र दिवस ( 15 अगस्त)

9. शिक्षक दिवस (5 सितंबर)

10. हिंदी दिवस (14 सितंबर)

11.बाल दिवस (14 नवंबर)

12. स्वच्छता अभियान (2 अक्टूबर)

13. विदाई समारोह

वृतांत लेखन के सूत्र –

1. कब – घटना कब हुई ? घटना की दिनांक और समय का उल्लेख ।

2. कहाँ – घटना कहाँ हुई ? घटना के स्थान का उल्लेख ।

3. किसके द्वारा – कार्यक्रम का आयोजन किसके द्वारा सम्पन्न हुआ? (कार्यक्रम आयोजन करने वाली संस्था या व्यक्ति का उल्लेख )

4. किसका – किसकी अध्यक्षता में कार्यक्रम सम्पन्न हुआ ? (अध्यक्ष या मुख्य अतिथि का उल्लेख )

5. क्या समारोह का कार्यक्रम क्या था ? (कार्यक्रम का उल्लेख )

6. कैसे – कार्यक्रम कैसे सम्पन्न हुआ ? ( कार्यक्रम का समापन )

वृत्तांत लेखन कैसे करें :

Some Examples OF VRUTANT LEKHAN IN HINDI

वृत्तांत लेखनप्रश्न संख्या

1. समता विद्यालय, नासिक में ‘हिंदी दिवस’ के शानदार समारोह का रोचक वृत्तान्त लेखन 60 से 80 शब्दों में लिखिए ।(वृत्तांत में स्थल, काल, घटना का उल्लेख होना अनिवार्य है ।)

उत्तर – समता विद्यालय में हिंदी दिवस का शानदार समारोह

(कार्यालय प्रतिनिधि द्वारा)नासिक, 14 सितंबर, 2020 सुबह 9:00 बजे स्थानीय समता विद्यालय में हिंदी दिवस समारोह मनाया गया । समारोह की अध्यक्षता स्थानीय महाविद्यालय के हिंदी विभागाध्क्ष श्रीमान सुनील पाठक ने की ।

कार्यक्रम की शुरुआत हिंदी स्वागत गीत से हुई । विद्यालय के प्रधानाध्यापक श्री दिनेश शर्मा जी ने माननीय अध्यक्ष महोदय का परिचय कराया तथा हिंदी क्षेत्र में आपके द्वारा राज्य स्तर एवं सामाजिक गतिविधियों के प्रति क्रियाशील होने का भी परिचय दिया ।

अध्यक्ष महोदय के कर कमलों से राष्ट्र स्तर की परीक्षाओं में उज्जवल यश प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कार तथा प्रमाण पत्र दिए गए।श्री पाठक जी ने हिंदी दिवस के प्रति बच्चों का लगाव और उत्साह देखकर उन्हें बधाई दी तथा अन्य छात्रों से भाषा में रुचि लेने तथा शुद्ध भाषा का उपयोग करने पर बल दिया ।

हिंदी भाषा के महत्त्व पर संक्षिप्त जानकारी छात्रों को दी । इसके बाद कुछ बच्चों ने हिंदी में कविता, कहानी, गीत आदि पेश किए, जिससे कार्यक्रम और भी शानदार बन गया । विद्यालय के हिंदी के अध्यापक श्रीमान वर्मा जी ने माननीय अध्यक्ष महोदय, प्रधानाध्यापक, अध्यापकवर्ग तथा सभी छात्रों को आभार प्रकट किया और इसी के साथ यह हिंदी दिवस का शानदार समारोह का समापन हुआ।

Example 2 Varksharopan

प्रश्न संख्या 2 – जनता विधालय में वृक्षारोपण दिवस पर हुए शानदार समारोह पर वृत्तांत लेखन कीजिए?

उत्तर -जनता विद्यालय में वृक्षारोपण का शानदार समारोह( छात्र प्रतिनिधि द्वारा )

रामनगर, 30 जून 2020, जनता विद्यालय के प्रांगण में “वृक्षारोपण अभियान” कार्यक्रम के तहत सोमवार को वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि स्थानीय नगर सेवक श्री म्हात्रे जी ने शिरकत की ।सबसे पहले विद्यालय के प्रधानाचार्य जी ने अतिथि महोदय का पुष्पगुच्छ देकर स्वागत करते हुए उनका संक्षिप्त परिचय दिया ।

उसके उपरांत प्रधानाचार्य जी ने अतिथि महोदय से विद्यालय के मैदान में नीम और आम के पौधे लगाने के लिए निवेदन किया ।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री म्हात्रे जी ने कहा, “वृक्ष हमारे जीवन दाता होते हैं जो हमारे वातावरण को संतुलित रखने का कार्य करते हैं, आज हम सभी को वृक्षारोपण का जो सुअवसर मिला है यह किसी सौभाग्य से कम नहीं है।

वृक्ष हमारे पुत्र के समान होते हैं इसलिए इनकी देखभाल और रख-रखाव भी हमारी जिम्मेदारी बनती है। वृक्ष लगाने से मन में जो आंतरिक खुशी की अनुभूति होती है उसकी कल्पना नहीं की जा सकती । “इस अभियान के तहत प्रधानाचार्य, शिक्षकों और छात्रों ने विभिन्न प्रकार की प्रजातियों के वृक्ष लगाये। सभी छात्रों ने अपने घर के आस पास वृक्ष लगाने का संकल्प लिया । उसके बाद छात्रप्रतिनिधि ने अतिथि महोदय का आभार प्रकट करते हुए समारोह का सम्पन्न किया ।/

वृत्तांत लेखन के अंक संबंधित कुछ बातें :

√ वृत्तांत लेखन बोर्ड की परीक्षा में कृति पत्रिका के रचना विभाग में ( उपयोजित लेखन) में पूछा जाता ।

V वृत्तांत लेखन 5 अंकों के लिए पूछा जाता है ।

√ कृति पत्रिका में वृत्तांत लेखन के प्रश्न के साथ विकल्प में कहानी पूछी जाती हैं।